Swati Sani (swatisani) wrote,
Swati Sani
swatisani

तलाश

रास्ता तो दिखता है....

रास्ता तो दिखता है....

कुछ नज़र नहीं आता
बहुत धुंद है, ठंड़ है,  कोहरा है यहाँ
रास्ता तो दिखता है
मगर क्या यहीं मुझे चलना है?
आगे बढ़ना है? या ठहर जाना है?
क्या कोई पगडंडी कहीं जुड़ती है?
या कोई राह निकलती है कहीं?

बहुत धुंद है, ठंड़ है,  कोहरा है यहाँ
कुछ भी नज़र नहीं आता
मेरी मंज़िल कहाँ है?
है भी या नहीं?
जो मैने देखी थी
क्या वो थी एक मरीचिका?
क्या मेरी लालसा अनंत है?

मेरा गंतव्य है कोई?
या इन धुंद भरी अकेली राहों पर
यूँ ही भटकना है मुझे
मगर…
कब तक?
कहाँ तक?
कुछ भी तो नज़र नहीं आता!

Originally published at Swati Sani. Please leave any comments there.

Tags: my hindustani poems, prose n poetry
Subscribe

  • ग़ज़ल

    दिलों को पिरोने वाला अब वो तागा नहीं मिलता रिश्तों में नमीं प्यार में सहारा नहीं मिलता यूँ ही बैठे रहो, चुप रहो, कुछ न कहो लोग मिल जातें हैं…

  • यादें

    पुराने पन्नों वाली वो डायरी अक्सर ज़िन्दा हो जाती है, जब खुलती है मुस्कुराती है, पहले प्यार की हरारत खिलखिलाती है कर के खुछ शरारत रुलाती…

  • ऐ नये साल

    January 1, 2012: Reflections. ऐ नये साल बता, तुझ में नयापन क्या है हर तरफ ख़ल्क ने क्यों शोर मचा रखा है रौशनी दिन की वही, तारों भरी रात वही…

Comments for this post were disabled by the author